अगर आप भी इस मंच पर कवितायेँ प्रस्तुत करना चाहते हैं तो इस पते पर संपर्क करें... edit.kavitabazi@gmail.com

Wednesday, August 3, 2011

जिद्


तमाम मिन्नतों के बाद,
जब बिछड़ते हुये दी थी तुमने,
हां कहकर साथ हो जाने की इजाजत,
सो... कैसे लौटता मैं पीछे,
उसूल नहीं था मेरा?
शायद तुम्हारी ताकत भी जाती रही थी,
जो बढ़कर पकड़ लेती हाथ मेरा।
चलो तन्हाई में ,
तय करेगें हम दोनों,
इस जिद् में,
तुम्हें क्या मिला?
और मैनें क्या खोया?

रविकुमार बाबुल

2 comments: