अगर आप भी इस मंच पर कवितायेँ प्रस्तुत करना चाहते हैं तो इस पते पर संपर्क करें... edit.kavitabazi@gmail.com

Saturday, December 31, 2011

आप सभी कवि मित्रो को नव वर्ष मंगलमय हो

कविताबाज़ी की ओर से आप सभी कवि मित्रो को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये 

बीते वर्ष में एक तजुर्बा, एक हुनर आ गया 
मनी'ये सीखते ही सीखते नया वर्ष आ गया
                ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,मनीष शुक्ल 

नव वर्ष 2012 की हार्दिक शुभकामनाएं।



नव वर्ष 2012 की हार्दिक शुभकामनाएं।
नव वर्ष 2012 आपके एवं आपके परिवार के लिए सुख, शांति,सम्पन्नता, समृद्धि एवं सफलता लेकर आय। ईश्वर से नव वर्ष पर यही कामना है।


  • रवि कुमार बाबुल


Tuesday, December 27, 2011

नसीब


हर किसी की आंखों में,
उनका नसीब पढ़ लेता हूं,
कि वह किसी से मिल रहे हैं,
या फिर बिछड़ रहे हैं आज?

रोज देखता हूं,
स्टेशन पर नमी,
जो किसी को लेने आते हैं,
या फिर किसी को छोड़ने आयें हैं,
उनकी आंखों में?

इंतजार मुझे भी है,
खुद के नसीब लिखने का?
जब तुम मुझे लेने आओ,
और हम दोनों,
निचोड़ लें अपनी-अपनी आंखों की नमी,
डूबो दें स्टेशन,
रोक दें रेलगाड़ी,
सदा-सदा के लिये।


  • रवि कुमार बाबुल


धकरपेल धकरपेल धकरपेल/ Dhakarpel Dhakarpel Dhakarpel


धकरपेल धकरपेल धकरपेल धकरपेल 
जीवन गाडी धकरपेल
धकरपेल धकरपेल धकरपेल धकरपेल

अक्कड बक्कड 
भीड़ भडक्कड
धक्का मुक्की 
आटा चक्की 
धुन में रमते निकले तेल 
धकरपेल धकरपेल धकरपेल धकरपेल 
जीवन गाडी धकरपेल
धकरपेल धकरपेल धकरपेल धकरपेल
एक डिब्बा दो डिब्बा 
तीन डिब्बा चार डिब्बा 
छुकछुक गाडी 
सीटी वाली 
जीवन बिन इंजन का रेल 
धकरपेल धकरपेल धकरपेल धकरपेल 
जीवन गाडी धकरपेल
धकरपेल धकरपेल धकरपेल धकरपेल

चाट चौपाटी
चोखा बाटी 
टैग लगा के 
जेब काटी 
गली गली में लगी है सेल 
धकरपेल धकरपेल धकरपेल धकरपेल 
जीवन गाडी धकरपेल
धकरपेल धकरपेल धकरपेल धकरपेल

देख के मौका 
मार दे चौका 
दौड संभल कर 
लगे न झटका 
जीवन बिन अम्पायर खेल
धकरपेल धकरपेल धकरपेल धकरपेल 
जीवन गाडी धकरपेल
धकरपेल धकरपेल धकरपेल धकरपेल



Dhakarpel  Dhakarpel  Dhakarpel
Jiwan gaadi dhakarpel
Dhakarpel  Dhakarpel Dhakarpel
Akkad bakkad
Bheed bhadakkad
Dhakka mukki
Aata  chakki
Dhun mein ramte nikle tel
Dhakarpel  Dhakarpel  Dhakarpel
Jiwan gaadi dhakarpel
Dhakarpel  Dhakarpel Dhakarpel

ek dibba do dibba 
teen dibba chaar dibba
chukchuk gaadi siti wali
jiwan bin engine ka rail
Dhakarpel  Dhakarpel  Dhakarpel
Jiwan gaadi dhakarpel
Dhakarpel  Dhakarpel Dhakarpel

chaat chaupaati 
choka baati
tag laga ke 
jeb kaati
gali gali mein lagi hai sale
Dhakarpel  Dhakarpel  Dhakarpel
Jiwan gaadi dhakarpel
Dhakarpel  Dhakarpel Dhakarpel

dekh ke mauka 
maar de chauka
daud sambhal ke
lage na jhatka
jiwan bin empire khel
Dhakarpel  Dhakarpel  Dhakarpel
Jiwan gaadi dhakarpel
Dhakarpel  Dhakarpel Dhakarpel

Neeraj Pal
www.neerajkavi.blogspot.com

समझदारी

हालात की आंच में..जिम्मेदारी के बर्तन...जब उम्र का दूध खौलता तो...उसमे समझदारी की बहुत मोटी मलाई पडती है...

Monday, December 26, 2011

चाहा था उन्हें




कसूर इतना था कि चाहा था उन्हें 
दिल में बसाया था उन्हें कि 
मुश्किल में साथ निभायेगें 
ऐसा साथी माना था उन्हें |
राहों में मेरे साथ चले जो
दुनिया से जुदा जाना था उन्हें
बिताती हर लम्हा उनके साथ
यूँ करीब पाना चाहा था उन्हें
किस तरह इन आँखों ने
दिल कि सुन सदा के लिए
उस खुदा से माँगा था उन्हें
इसी तरह मैंने खामोश रह
अपना बनाना चाहा था उन्हें |
- दीप्ति शर्मा

Sunday, December 25, 2011

याद



मेरी आंखों में,
तुम्हारी याद,
खारे पानी में,
हो जाती है तब्दील।

सोचता हूं मैं ,
तुमको भी,
तन्हाई में,
आती होगी याद मेरी?

यादों को सम्हाल रखा है मैंनें,
क्यूंकि,
मुझे तुमसे प्यार है।

तुमने कहां गलत किया मुझको भूलाकर,
क्यूंकि,
मेरा प्यार तुम्हें स्वीकार ही कहां था?



  • रविकुमार बाबुल


Friday, December 23, 2011

फिर तेरी याद आयी



 भीनी भीनी सी मिट्टी की महक आयी
ओस की बूंदों से पत्तो पर चमक आयी 
पीछे मुड़कर जब देखा मैंने 
तो याद तेरी फिर आयी 

अँधेरे  को दूर कर सूरज की रोशनी आयी 
सन्नाटे को चीरती चिडियों की चहचाहट आयी 
राज कई बंद हैं सीने में मेरे 
और उन्हें खोलने हँसी तेरी फिर आयी 

तेरी बातो का जादू हैं कुछ ऐसा
पत्थर भी सुनने लगे हैं ये कुछ ऐसा 
मधुशाला की और बढ़ते हुए मेरे कदमो को रोकने 
तेरी नशीली निगाहे  फिर आयी 

मुस्कुराते हुए वो पल फिर आये ,
तेरी जुल्फों  की छाव ले आये 
सोचा था फिर होगी मुलाकात तुझसे 
पर तुझे मुझसे छिनने  
ज़माने के ये रिवाज फिर आये .
(चिराग )

Wednesday, December 21, 2011

मनी'ये अपने लोग है जिनकी दुआए साथ चलती है जब तक न हों पूरा सफ़र,सफ़र छोड़ा नहीं जाता

 अपनों को राहों में यू ही छोड़ा नहीं जाता 
रिश्ता बनाया जाता है रिश्ता तोडा नहीं जाता 

माना की फासले  भी अब बढ़ गए है बहुत 
फसलो के डर से रुख बस्ती से मोड़ा नहीं जाता 

मनी'ये अपने लोग है जिनकी दुआए साथ चलती है 
जब तक न हों पूरा सफ़र,सफ़र छोड़ा नहीं जाता 

अपने ही लोग है जो तारीफों के पुल बाधते थकते नहीं 
और पुल से गुजरा जाता है पुल तोडा नहीं जाता 

हों सकता है कभी उनसे भी हों जाये कुछ खामिया
आखिर वो भी इंसान है और इंसानों का दिल तोडा नहीं जाता  
`          ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,मनीष शुक्ल 

Monday, December 19, 2011

अदम गोडवी जी को शत शत नमन

आइए महसूस करिए ज़िन्दगी के ताप को
मैं चमारों की गली तक ले चलूंगा आपको
जिस गली में भुखमरी की यातना से ऊब कर
मर गई फुलिया बिचारी इक कुएँ में डूब कर
है सधी सिर पर बिनौली कंडियों की टोकरी
आ रही है सामने से हरखुआ की छोकरी
चल रही है छंद के आयाम को देती दिशा
मैं इसे कहता हूँ सरजूपार की मोनालिसा
कैसी यह भयभीत है हिरनी-सी घबराई हुई
लग रही जैसे कली बेला की कुम्हलाई हुई
कल को यह वाचाल थी पर आज कैसी मौन है
जानते हो इसकी ख़ामोशी का कारण कौन है

थे यही सावन के दिन हरखू गया था हाट को
सो रही बूढ़ी ओसारे में बिछाए खाट को
डूबती सूरज की किरनें खेलती थीं रेत से
घास का गट्ठर लिए वह आ रही थी खेत से
आ रही थी वह चली खोई हुई जज्बात में
क्या पता उसको कि कोई भेड़ि़या है घात में
होनी से बेख़बर कृष्ना बेख़बर राहों में थी
मोड़ पर घूमी तो देखा अजनबी बाहों में थी
चीख़ निकली भी तो होठों में ही घुट कर रह गई
छटपटाई पहले, फिर ढीली पड़ी, फिर ढह गई
दिन तो सरजू के कछारों में था कब का ढल गया
वासना की आग में कौमार्य उसका जल गया

और उस दिन ये हवेली हँस रही थी मौज में
होश में आई तो कृष्ना थी पिता की गोद में
जुड़ गई थी भीड़ जिसमें ज़ोर था सैलाब था
जो भी था अपनी सुनाने के लिए बेताब था
बढ़ के मंगल ने कहा काका तू कैसे मौन है
पूछ तो बेटी से आख़िर वो दरिंदा कौन है
कोई हो संघर्ष से हम पाँव मोड़ेंगे नहीं
कच्चा खा जाएंगे ज़िन्दा उनको छोडेंगे नहीं
कैसे हो सकता है होनी कह के हम टाला करें
और ये दुश्मन बहू-बेटी से मुँह काला करें
बोला कृष्ना से- बहन, सो जा मेरे अनुरोध से
बच नहीं सकता है वो पापी मेरे प्रतिशोध से

पड़ गई इसकी भनक थी ठाकुरों के कान में
वे इकट्ठे हो गए थे सरचंप के दालान में
दृष्टि जिसकी है जमी भाले की लम्बी नोक पर
देखिए सुखराज सिंग बोले हैं खैनी ठोंक कर
क्या कहें सरपंच भाई! क्या ज़माना आ गया
कल तलक जो पाँव के नीचे था रुतबा पा गया
कहती है सरकार कि आपस मिलजुल कर रहो
सुअर के बच्चों को अब कोरी नहीं हरिजन कहो

देखिए ना यह जो कृष्ना है चमारों के यहां
पड़ गया है सीप का मोती गँवारों के यहां
जैसे बरसाती नदी अल्हड़ नशे में चूर है
हाथ न पुट्ठे पे रखने देती है, मगरूर है
भेजता भी है नहीं ससुराल इसको हरखुआ
फिर कोई बाहों में इसको भींच ले तो क्या हुआ
आज सरजू पार अपने श्याम से टकरा गई
जाने-अनजाने वो लज्जत ज़िंदगी की पा गई
वो तो मंगल देखता था बात आगे बढ़ गई
वरना वह मरदूद इन बातों को कहने से रही

जानते हैं आप मंगल एक ही मक्कार है
हरखू उसकी शह पे थाने जाने को तैयार है
कल सुबह गरदन अगर नपती है बेटे-बाप की
गाँव की गलियों में क्या इज्जत रहेगी आपकी
बात का लहजा था ऐसा ताव सबको आ गया
हाथ मूँछों पर गए माहौल भी सन्ना गया 
क्षणिक आवेश जिसमें हर युवा तैमूर था
हाँ, मगर होनी को तो कुछ और ही मंज़ूर था
रात जो आया न अब तूफ़ान वह पुर ज़ोर था
भोर होते ही वहाँ का दृश्य बिलकुल और था

सिर पे टोपी बेंत की लाठी संभाले हाथ में
एक दर्जन थे सिपाही ठाकुरों के साथ में
घेरकर बस्ती कहा हलके के थानेदार ने -
"जिसका मंगल नाम हो वह व्यक्ति आए सामने"
निकला मंगल झोपड़ी का पल्ला थोड़ा खोलकर
एक सिपाही ने तभी लाठी चलाई दौड़ कर
गिर पड़ा मंगल तो माथा बूट से टकरा गया
सुन पड़ा फिर "माल वो चोरी का तूने क्या किया"
"कैसी चोरी माल कैसा" उसने जैसे ही कहा
एक लाठी फिर पड़ी बस, होश फिर जाता रहा
होश खोकर वह पड़ा था झोपड़ी के द्वार पर

ठाकुरों से फिर दरोगा ने कहा ललकार कर -
"मेरा मुँह क्या देखते हो! इसके मुँह में थूक दो
आग लाओ और इसकी झोपड़ी भी फूँक दो"
और फिर प्रतिशोध की आंधी वहाँ चलने लगी
बेसहारा निर्बलों की झोपड़ी जलने लगी
दुधमुँहा बच्चा व बुड्ढा जो वहाँ खेड़े में था
वह अभागा दीन हिंसक भीड़ के घेरे में था
घर को जलते देखकर वे होश को खोने लगे
कुछ तो मन ही मन मगर कुछ ज़ोर से रोने लगे

"कह दो इन कुत्तों के पिल्लों से कि इतराएँ नहीं
हुक्म जब तक मैं न दूँ कोई कहीं जाए नहीं"
यह दरोगा जी थे मुँह से शब्द झरते फूल से
आ रहे थे ठेलते लोगों को अपने रूल से
फिर दहाड़े "इनको डंडों से सुधारा जाएगा
ठाकुरों से जो भी टकराया वो मारा जाएगा"
इक सिपाही ने कहा "साइकिल किधर को मोड़ दें
होश में आया नहीं मंगल कहो तो छोड़ दें"
बोला थानेदार "मुर्गे की तरह मत बांग दो
होश में आया नहीं तो लाठियों पर टांग लो
ये समझते हैं कि ठाकुर से उनझना खेल है
ऐसे पाजी का ठिकाना घर नहीं है जेल है"

पूछते रहते हैं मुझसे लोग अकसर यह सवाल
"कैसा है कहिए न सरजू पार की कृष्ना का हाल"
उनकी उत्सुकता को शहरी नग्नता के ज्वार को
सड़ रहे जनतंत्र के मक्कार पैरोकार को
धर्म संस्कृति और नैतिकता के ठेकेदार को
प्रांत के मंत्रीगणों को केंद्र की सरकार को
मैं निमंत्रण दे रहा हूँ आएँ मेरे गाँव में
तट पे नदियों के घनी अमराइयों की छाँव में
गाँव जिसमें आज पांचाली उघाड़ी जा रही
या अहिंसा की जहाँ पर नथ उतारी जा रही
हैं तरसते कितने ही मंगल लंगोटी के लिए
बेचती है जिस्म कितनी कृष्ना रोटी के लिए !

Sunday, December 18, 2011

ये कौन सा देश है



ये सोने की चिड़िया भारत था,
अब देश बना कंगालों का है।
चन्द्रगुप्त का अद्भुत भारत,
अब देश बना गद्दारों का है॥

नेतृत्व नैतिकता भूल चुका है,
जनता मूर्ख बनी बस सोती है।
अपने अधिकारों को आश्वासन के,
चरणामृत में घोलकर पीते हैं॥

उन पर लिखने ..ये कौन सा देश है(Complete)

Saturday, December 17, 2011

मनी'ये तय है की एक दिन तुम खुद को साबित करोगे ,जीतोगे मगर इस आज का क्या जो , बड़ी बेदर्दी से झीना जा रहा है यहाँ

'मनी'क्या ऐसा भी होता है कही जैसा हो रहा है यहाँ 
बचपन को कुचला मासूमियत को लूटा जा रहा है यहाँ 

जिन बच्चो के हाथ अभी सही से झुनझुना बजाना भी नहीं सीखे 
वो खुद को मिटा के सबकुछ भुला के घर का खर्च उठा रहे है यहाँ 

अजीब रहमो करम पे जिन्दा है ये ,ये कैसी दुआए है 
की किसी की भी दुआ इनके काम नहीं आ रही है यहाँ 

इतना कठिन देखकर ये सब भावो से भर जाता हू मै ,कभी कभी रो जाता हू,मनी '
फ़रिश्ते कहू या दुनिया के सबसे होनहार जिन्हें कोई मौका नहीं दिया जा रहा है यहाँ 

मनी'ये तय  है की एक दिन तुम  खुद को साबित करोगे ,जीतोगे 
मगर इस आज का क्या जो , बड़ी बेदर्दी से झीना जा रहा है यहाँ 
                                            ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,मनीष शुक्ल 




Thursday, December 15, 2011

मुठ्ठी भर उम्मीद


सूरज की मानिंद,
आवारगी  हमारी,
ताउम्र चांद को तलाशती रही।

सूरज की चांद से ,
मिलन की,
बस इक आरजू रही।

कभी किसी रोज,
ग्रहण में वह खो जाये मुझमें,
बस मुठ्ठी भर उम्मीद यही रही।


  • रवि कुमार बाबुल



फोटो गूगल से साभार

Wednesday, December 14, 2011

आंसू की कीमत


किसी  ने  आंसू  की  कीमत  ना  पहचानी,
जब मन  में  सैलाब  उठा ,बह चला  आँखों  से  पानी!
गालों  पे  धुलाकता  रहा,दुनिया की निगाहों से छुपता रहा,    
गालों पे सुख के चल पड़ा राह अनजानी!
किसी ने  मोती मन तो किसी ने पानी ,
पर ना ये  मोती है  और  ना ही  पानी !
सुनी सब के मुहं ये  कहानी ,आंसू तो एक अनमोल प्राणी
किसी  ने  आंसू  की  कीमत  ना  पहचानी!

Monday, December 12, 2011

तेरा दीवाना भोलापन मुझको बहुत सताता है 
मनी'चुपके चुपके ये मेरे खाव्बो में भी आता है

कभी मै तुमसे नजर मिलाऊ कभी मै पुछू कैसी हों 
 सच कहता हू जानेमन ऐसी हिम्मत दे जाता है 

और कभी दिख जाती हों तुम जाती मुझको सडको पर 
कुछ तो कहते फिर चूके तुम ,ये तक कहने आता है 

जब कभी मै उलझा होता हू या घबरा जाता हू 
तब आकर ये मुझको अच्छे से समझा जाता है 

मनी'जब पता चलेगा तुमको न जाने तुम क्या सोचोगी
यही सोच डर जाता हू शायद इसीलिए पीछे हट जाता हू

तेरा दीवाना भोलापन मुझको बहुत सताता है 
मनी'चुपके चुपके ये मेरे खाव्बो में भी आता है
  
          ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,मनीष शुक्ल 

Wednesday, December 7, 2011

तू भी नहीं अब तेरा एहसास भी नहीं ,उगते हुए सूरज को तेरी आस भी नहीं


तू भी नहीं अब तेरा एहसास भी नहीं
उगते हुए सूरज को तेरी आस भी नहीं

दोस्ती कि कितनी झूठी दुहाई दोगे' के
अब दोस्ती के तू आस पास भी नहीं

कितनो को दोस्त कहके तू ने यहाँ लूटा 'कि
अब रहा किसी का तुझ पर विश्वास भी नहीं

कब तक गिनाते रहोगे वो एक एहसान अपना'कि
'मनी'इनको होगा कभी इसका एहसास भी नहीं

तू भी नहीं अब तेरा एहसास भी नहीं
गते हुए सूरज को तेरी आस भी नहीं
'''''''''''''''''''''''मनीष शुक्ल

Monday, December 5, 2011

लिख रहीं हूँ एक ग़ज़ल मैं


लिख रहीं हूँ एक ग़ज़ल मैं ,
आवाज दे अपनी सामने लाऊँगी
तैयार कर धुन उसकी
सबको वो ग़ज़ल सुनाऊंगी
अभी तो लिख रही हूँ फिर
बाद परीक्षा के सुना पाऊँगी
लिख रहीं हूँ एक ग़ज़ल मैं
आवाज़ दे अपनी सामने लाऊँगी
कुछ महकी बात सुनाऊंगी
कुछ हँसाती सी कुछ रुलाती सी
वो ग़ज़ल जल्द ही ले आऊँगी
थोडा इंतज़ार कर लीजिये
फिर तो इसकी धुन मैं
आपके कानों तक पहुंचाऊँगी
बस मैं गुनगुनाती जाऊँगी
लिख रहीं हूँ एक ग़ज़ल मैं
आवाज़ दे अपनी सामने लाऊँगी

तो मिलते हैं परीक्षा के बाद !!!!!!!!
- दीप्ति शर्मा

Sunday, December 4, 2011

क्या मैंने चाहा और क्या पा लिया?

मन के कुछ भावों में से एक ये भी है,एक लड़की के मन में उठने वाली दुविधा को मैंने शब्द देने का प्रयास कर रही हूँ----
 
क्या मैंने चाहा और क्या पा लिया?
खुदा से दुआओं में तुमको माँगा,
मेरी दुआओं में रंग आया,
और जिंदगी में पाया तुमको!!
अपने जीवन का केंद्र बिंदु बनाया तुमको,
पर तुमने सदैव वसुधेव कुटुम्बकम का राग आलापा,
वक्त ने कैसे दोराहे पे किया खड़ा,
तुममे अपनी खुशियाँ धुंडू या तुम्हारी खुशियों को अपना मानूँ,
तुम्हारे लिए सबकुछ छोड़ा,
पर तुमको कैसे छोडूँ?
इतनी निस्वार्थी कैसे बनूँ!!
तुमको छोड़ नहीं सकती,
तुम्हारी खुशियों को अपना नहीं सकती,
तो सोचने पे मजबूर हूँ,
क्या मैंने चाह और क्या पा लिया ?

Thursday, December 1, 2011

मै भला हू या बुरा रहने दो ,,,,,,,,

मै भला हू या बुरा रहने दो 
मै जैसा हू वैसा बना रहने दो 

मुझको दिए है तुने  तोहफे बहुत 
मै  भूला हू  वो सब भूला रहने दो 

शराफत है कितनी तुझमे पता है 
बस एक पर्दा है पड़ा रहने दो

अब   दर्द में आवाज़ मत दो मुझे
बेवफा बोला था बेवफा ही रहने दो 

'मनी' आजकल बहुत हँसता  हू मै 
दूर रखो खुदको मुझे जुदा रहने दो 
                  ........मनीष शुक्ल 
 

Tuesday, November 29, 2011

....कहीं सिर फूट न जाए, तेरी चौखट से टकरा कर !!

मैं क्या हूँ, कुछ भी नहीं हूँ
मगर तू है, बहुत कुछ है
फर्क गर है, दोनों में
जमीं और आसमां सा है
तू डरता है, बुलाने से
मैं आने में, सहमता हूँ
आने को, तो मैं चला आता
बिना बुलाये, महफ़िल में
सच ! नहीं डरता मैं आने से
तेरी, ऊंची हवेली में
चिंता है, तो बस इतनी
कहीं सिर फूट न जाए
तेरी चौखट से टकरा कर !!
...
सच ! नहीं डरता मैं आने से, तेरी ऊंची हवेली में
कहीं सिर फूट न जाए, तेरी चौखट से टकरा कर !



हमारे मित्र :-
श्याम 'उदय' की रचना

Monday, November 28, 2011

जन्मदिन


आज मेरी प्यारी बहिन का जन्मदिन है और मैं बहुत खुश हूँ ,, मेरी तरह से उसे ढेरो शुभकामनाये ,,, कृपया आप भी अपना बहुमूल्य आशीर्वाद उसे प्रदान करें |

आज जन्मदिवस पर तेरे ,
ओ मेरी प्यारी बहिन
दुलार करते हैं सभी
प्यार करते हैं सभी

हजार ख्वाहिशें जुडी हैं
माँ पापा की तुझसे
रौशन है ये आँगन तुझसे
कह दे तू ये आज मुझसे
न दूर हो हम कभी भी
अब एक दूजे से

जफ़र पा ओ मेरी बहिन
घर जल्दी आना तू अबकी
आँखों का तारा हैं तू सबकी

तेरा सपना सच हो जाये
हर ख्वाहिश पूरी हो जाये
जन्मदिन पर मिले तुझे
सबका इतना आशीष
की हर बाला आने से
पहले ही टल जाये

जन्मदिन बहुत बहुत मुबारक हो प्रीती .

- दीप्ति शर्मा

मस्त बिंदास ,रहती हों वाकई गज़ब है पर औरो की तरह भाव न खाया करो तुम

धीरे से आराम से खिड़की से मुस्कुराया करो तुम 
नजर लग जाएगी यूही  टहलने न जाया करो तुम 

यू तो सबको अच्छे लगने लगे हों पर 'कोई नहीं 
खासकर ये लाल रंग पहन कर न आया करो तुम 

लाजवाब' अदाए है पास तुम्हारे सच है ये 
पर हस्ते हुए यू ज़ुल्फ़ न लहराया करो तुम  

      मस्त बिंदास ,रहती हों वाकई गज़ब है 
  पर  औरो की तरह भाव न खाया करो तुम 

सच है सभी कहते की बहुत  खूबसूरत लड़की हों तुम 
मनी' पर घंटा घंटा आईने को युही न निहारा करो तुम 
                                   ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,मनीष शुक्ल 

एहसास - ए- दिल


१. हंसाने वाले  मुस्कराहट  दे  ,,
खुद भी मुस्कुराते  हैं .
तो क्या यूँ  सबको रुलाने वाले भी,,,

कभी किसी के लिए आंसूं  बहाते हैं 


२.मैं हूँ उन लहरों की तरह 
जो ऊँचाई छुआ करती हैं 
मिल जातीं हैं रेत से पर 
खुद के अस्तित्व को कायम रखती हैं |


दीप्ति शर्मा 

Saturday, November 26, 2011

कितना भी नकार ले, दुनिया के डर से, उसे मन ही मन मेरी याद आती होगी


ठंडी हवा जब उसे, छू कर जाती होगी,
शायद उसे मेरी याद, आती होगी,
कितना भी नकार ले, दुनिया के डर से,
यकीन है मन ही मन मुझे, चाहती होगी.........

फूट पड़ते है, झरने पत्थरो से यकायक,
अश्क छुपाने को बारिश में, नहाती होगी.......

क्या फर्क आलम-ए-तन्हाई बसर का
मिले थे जिन बागो में, वहा जाती होगी.......

तकिये के गिलाफ में, मेरे ख़त सबूत है,
मेरे खूँ की लिखावट उसे रुलाती होगी.............

कौन करेगा हिफाज़त, तेरी जुल्फों की दिलनशी,
बंद कमरों में बस आईने, जलाती होगी..........

हारकर, थककर, रोकर, सुबककर, बेचारी,
मुझसे दूर तन्हा यु हीं सो जाती होगी..

कितना भी नकार ले, दुनिया के डर से,
उसे मन ही मन मेरी याद आती होगी

ठंडी हवा जब उसे, छू कर जाती होगी,
शायद उसे मेरी याद, आती होगी
शायद उसे मेरी याद, आती होगी
प्रभात कुमार भारद्वाज"परवाना"
ब्लॉग का पता : http://prabhat-wwwprabhatkumarbhardwaj.blogspot.com/

कैसी होगी वो मुलाकात |



जाने दिन होगा या रात
कैसी होगी वो मुलाकात,
अंधियारे को भेदती 
मंद मंद चाँद की चांदनी 
और हल्की सी बरसात 
कुछ शरमीले से भाव 
कुछ तेरी कुछ मेरी बात 
अनजाने से वो हालत 
कैसी होगी वो मुलाकात |

आलम-ए-इश्क वजह 
बन तमन्नाओं से 
सराबोर निगाहों के साये 
में हुयी तमाम बात 
तकते हुए नूर को तेरे
ठहरी हुयी सी आवाज 
अनजाने से वो हालात
कैसी होगी वो मुलाकात | 

Thursday, November 24, 2011

जीवन धारा




अविरल चलती करती छल छल,
रखती सुख दुःख जीवन धारा।
स्वयं अकिंचन, भरती कण कण,
गति निर्मोही ये जीवन धारा॥