अगर आप भी इस मंच पर कवितायेँ प्रस्तुत करना चाहते हैं तो इस पते पर संपर्क करें... edit.kavitabazi@gmail.com

Saturday, April 2, 2011

खता नहीं है |



हर इन्सान में जज्बा है 
सच बोलने का फिर भी 
वो झूठ से बचा नहीं है |

पहना है हर चेहरे ने 
एक नया चेहरा 
और जीता है जिन्दगी  
जब वो  बोझ समझ पर ,
जिन्दगी उसकी सजा नहीं है 
वो झूठ से बचा नहीं है |


खुद को पहचान वो 
चलता है उन रास्तो पर 
जहाँ खुद को जानने की
उसकी कोई रजा नहीं है 
वो झूठ से बचा नहीं है| 

कहता तो है हर बात 
बड़ी ही सच्चाई से पर 
नजरें कहती है उसकी 
कि उसके पास सच बोलने 
 की कोई वजह नहीं है 
इसलिए ही तो वो
 झूठ से बचा नहीं है |
इसमें उसकी खता नहीं है |
                                      
- दीप्ति शर्मा 

4 comments:

  1. जिन्दगी उसकी सजा नहीं है
    वो झूठ से बचा नहीं है |...such ko baya karti panktiya hai.. very nice

    ReplyDelete
  2. ह्र्दय की गहराई से निकली अनुभूति रूपी सशक्त रचना

    ReplyDelete
  3. अद्भुत ........... ।

    ReplyDelete
  4. कहता तो है हर बात
    बड़ी ही सच्चाई से पर
    नजरें कहती है उसकी
    कि उसके पास सच बोलने
    की कोई वजह नहीं है
    इसलिए ही तो वो
    झूठ से बचा नहीं है |
    इसमें उसकी खता नहीं है |
    ह्र्दय की गहराई से निकली सशक्त रचना |

    ReplyDelete