अगर आप भी इस मंच पर कवितायेँ प्रस्तुत करना चाहते हैं तो इस पते पर संपर्क करें... edit.kavitabazi@gmail.com

Sunday, March 20, 2011

अबकी होली में...!


रंगों से कोई राग बनाया जाये अबकी होली में
उम्मीदों का फाग सुनाया जाये अबकी होली में

रंग उड़ गए जिन दीवारों के जीवन की धूपों में
आओ फिर से उन्हें सजाया जाये अबकी होली में

उतरे न साबुन से ना हल्का हो गम की बारिश में
ऐसा कोई रंग लगाया जाये अबकी होली में

  छूट गयीं जो गलियां पीछे छूट गए जो चौराहे
आओ फिर से घूमके आया जाये अबकी होली में

जो रूठे हैं किस्मत से या फिर हमसे गुस्सा हैं
आओ चलके उन्हें मनाया जाये अबकी होली में

घुल जाएँ सारे आंसू चमकें चेहरों पर मुस्कानें
ऐसा कोई गीत सुनाया जाये अबकी होली में

जो दुबक गए हैं बिल में वो सपने फिर बाहर आ जाएँ
ऐसा कोई बीन बजाया जाये अबकी होली में......

होली की हार्दिक शुभकामनायें.

5 comments:

  1. शुभागमन...!
    कामना है कि आप ब्लागलेखन के इस क्षेत्र में अधिकतम उंचाईयां हासिल कर सकें । अपने इस प्रयास में सफलता के लिये आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या उसी अनुपात में बढ सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको 'नजरिया' ब्लाग की लिंक नीचे दे रहा हूँ, किसी भी नये हिन्दीभाषी ब्लागर्स के लिये इस ब्लाग पर आपको जितनी अधिक व प्रमाणिक जानकारी इसके अब तक के लेखों में एक ही स्थान पर मिल सकती है उतनी अन्यत्र शायद कहीं नहीं । प्रमाण के लिये आप नीचे की लिंक पर मौजूद इस ब्लाग के दि. 18-2-2011 को प्रकाशित आलेख "नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव" का माउस क्लिक द्वारा चटका लगाकर अवलोकन अवश्य करें, इसपर अपनी टिप्पणीरुपी राय भी दें और आगे भी स्वयं के ब्लाग के लिये उपयोगी अन्य जानकारियों के लिये इसे फालो भी करें । आपको निश्चय ही अच्छे परिणाम मिलेंगे । पुनः शुभकामनाओं सहित...

    नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव.

    टिप्पणीपुराण और विवाह व्यवहार में- भाव, अभाव व प्रभाव की समानता.

    ReplyDelete
  2. ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

    नि:शुल्‍क संस्‍कृत सीखें । ब्‍लागजगत पर सरल संस्‍कृतप्रशिक्षण आयोजित किया गया है
    संस्‍कृतजगत् पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
    सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो संस्‍कृत के प्रसार में अपना योगदान दें ।

    यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

    हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

    धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  3. bahut achi kavita trivedi ji..
    उतरे न साबुन से ना हल्का हो गम की बारिश में
    ऐसा कोई रंग लगाया जाये अबकी होली में
    bahut pasand aayi ye panktiyaan mujhe..
    aise hi likhte rahiye...shubh kaamnayein

    maine bhi holi pe chaar panktiyaan ikhne ki koshish ki thi

    आया कलयुग मानस के अब ह्रदय में होलिका रहती है
    ले गोद में बालक प्यारे को,अग्नि वेदी पे जा बैठी है
    उठ जा मानुस,प्रेम सहित हरी के नाम को कर ले याद
    तभी दहन होगी ये होलिका,तभी बचेंगे भक्त प्रहलाद

    samay mile to mere blog pe bhi tippni kijiyega
    http://phattphattphatt.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच की तरफ से आप, आपके परिवार तथा इष्टमित्रो को होली की हार्दिक शुभकामना. यह मंच आपका स्वागत करता है, आप अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच

    ReplyDelete
  5. HOLI KO KHOOBSURAT RANGON ME PIROYA HAI AAPNE

    ReplyDelete