अगर आप भी इस मंच पर कवितायेँ प्रस्तुत करना चाहते हैं तो इस पते पर संपर्क करें... edit.kavitabazi@gmail.com

Wednesday, February 23, 2011

इश्क क्या होता है ............!


इश्क क्या होता  है ,
समझते है हम चोट खाने के बाद ,
वो हंस कर सितम करती रही 
हम हंस कर सितम सहते रहे 
मेरी आँखों में झलकती है मेरी कहानी 
जो छुपाये नहीं छुपती |
मौत आये तो गले लगा ले हम 
जी कर क्या करे इश्क में चोट खाने के बाद 
दर्द गमो का इलाज़ मिल भी जाये तो क्या 
मरना चाहता है ' भास्कर ' अब लाइलाज | 
-- संजय कुमार भास्कर

7 comments:

  1. इश्क क्या होता है ,
    समझते है हम चोट खाने के बाद ,
    वो हंस कर सितम करती रही
    हम हंस कर सितम सहते रहे

    इश्क चाहे जो भी सितम करे पर इश्क तो होता ही है .......... खूबसूरत रचना ....

    ReplyDelete
  2. बहुत चोट खाए हो भैया, इश्क मा ई हाल सबका ही होत है. जरा संभल के.............

    ReplyDelete
  3. वो हंस कर सितम करती रही
    हम हंस कर सितम सहते रहे
    अच्छा लिखा है है संजय जी,,,

    ReplyDelete
  4. आप सभी का ह्र्दय से बहुत बहुत आभार ! इसी तरह समय समय पर हौसला अफज़ाई करते रहें ! धन्यवाद !

    ReplyDelete
  5. अच्छा लिखा है
    संजय जी.......

    ReplyDelete
  6. खुसरो दरिया इश्क का, उल्टी वाकी धार
    जो उतरा सो डूब गया, जो डूबा सो पार.

    ReplyDelete